Home Aap ki Kalam भुतहा कब्रिस्तान

भुतहा कब्रिस्तान

228
0

Mysterious horror cemetery

मुझे शूटिंग के लिए एक कब्रिस्तान चाहिए तुम समझ रहे हो ना…मेघना रुद्र पर चिल्लाते हुए बोली, यस मैम मेरी बात हो गई है और लोकेशन भी मिल गई है लेकिन एक प्रॉबलम है…रुद्र डरते हुए बोला…क्या प्रॉबलम मेघना फिर रुद्र पर चिल्लाई…

मैम वो कब्रिस्तान भुतहा है आई मीन वहां अब कोई नहीं जाता इसीलिए वो हमें सस्ते में शूटिंग के लिए मिल गया है…

भुतहा…मेघना हंसते हुए बोली, हर कब्रिस्तान भुतहा ही होता है और हमारी स्टोरी के लिए ये और भी अच्छी बात बिल्कुल रियल लगेगा सब…जल्दी से शूटिंग का सामान पैक करो शाम तक वहां पहुंचना भी है…

जिस कब्रिस्तान की बात रुद्र कर रहा था वहां अब परिंदे भी नहीं जाते थे…

कहा जाता है कि आखिरी बार जब कई लोग किसी को दफनाने वहां गए तो कोई लौटकर नहीं आया क्या हुआ था वहां इस रहस्य को कोई नहीं जानता था और ना ही जानने की हिम्मत हुई किसी में…

शूटिंग का सामान और अपनी टीम को लेकर मेघना निकल चुकी थी एक और हॉरर फिल्म शूट करने…

रात हो रही थी रुद्र के मन में कब्रिस्तान को लेकर डर था कि अगर वहां के बारे में जो भी उसने सुना है वो सच हुआ तो क्या होगा…

जब गाड़ियां कब्रिस्तान के गेट पर पहुंची

उसने एक बार फिर से मेघना को समझाना चाहा कि वो सभी की जान जोखिम में ना डाले तो मेघना ने उसे डांटा और कहा कि वो दुबारा इस बारे में बात नहीं करेगी….

सबकी गाड़िया कब्रस्तिान के गेट पर पहुंच चुकी थी…

लेकिन ये क्या सभी की गाड़िया अचानक बंद हो गई जैसे कोई उन्हें गेट के अंदर जाने से रोक रहा हो

सभी लोग सामान लेकर यहां से पैदल ही अंदर चलेंगे और हां अपने-अपने टॉर्च जला लो सब मेघना बोली….ये क्या गेट का ताला तो बंद है…टीम में से ही कोई बोला…

रुद्र तुमने चाभियां नहीं ली थी क्या मेघना रुद्र को घूरते हुए बोली…

इससे पहले रुद्र कुछ बोलता अंदर की तरफ से कोई लालटेन लेकर आता दिखाई दिया…लो आ गया चौकीदार रुद्र गहरी सांस लेते हुए बोला…

चौकीदार ने अंदर से ही ताला खोला और सभी को अंदर आने के लिए कहा…सभी जैसे ही अंदर आए उसने तुरंत दरवाजा बंद करके दुबारा ताला लगा दिया…

रुद्र ने डरते हुए पूछा…आपने ताला क्यों लगा दिया?…जिससे रूहानी शक्तियां बाहर ना जा पाएं इसलिए…चौकीदार ने जवाब दिया….

चलो सब फटाफट सेट तैयार करो और लाइट्स लगाओ…मेघना बोली

सब सेट लगाने में बिजी थे मेघना ने चौकीदार से पूछा कि ये कब्रिस्तान शहर के सबसे नजदीक है फिर भी यहां कोई किसी को दफनाने क्यों नहीं आता?

चौकीदार ने कहा क्यों तुम लोग आए तो हो।

Source:google

मेघना को लगा कि शायद चौकीदार मजाक कर रहा है इसीलिए उसने इस बात को अनसुना कर दिया…

उसको अपनी तबियत ठीक नहीं लग रही थी वो वहीं पर टहलने लगी और टहलते-टहलते हुए कब वो अपने ग्रुप से अलग हो गई उसे पता ही ना चला…वो कुछ सोच रही थी कि तभी उसे झाड़ियों से कुछ आवाजें सुनाई दी उसने वहां टॉर्च की रोशनी डाली तो कुछ ना दिखा वो थोड़ा डरी फिर उसे लगा कि टीम में से ही किसी की शरारत होगी क्योंकि अक्सर शूटिंग के दौरान वो उसे डराने की कोशिश करते थे।

तभी उसे फिर से झाड़ियों में कुछ हलचल दिखाई दी उसने झाड़ियों के पीछे देखा तो डर के मारे उसकी चीख निकल गई…

खूंखार भेड़िया

एक जानवर किसी का शरीर नौचकर खा रहा था…ऐसा जानवर उसने पहली बार देखा था बड़ी-बड़ी खूंखार आंखे, बड़ा सा शरीर जैसे कोई इंसान हो जिसने भेड़िये का रूप ले लिया हो…

उस की चीख सुनकर वो वहां से भाग गया मेघना ने वहां जाकर देखा तो वो शरीर पूरी तरह से नौचा हुआ था सिर गायब था और अंतड़ियां बाहर निकल आईं थी, बगल में पड़े कपड़े से मेघना को लगा कि ये तो उसी के टीम की नेहा के कपड़े हैं….

उसी तरफ दौड़ी जहां सब उसका शूटिंग सेट तैयार कर रहे थे…लेकिन वो गुम हो चुकी थी वो बार-बार उसी जगह पहुंच जाती जहां वो शरीर पड़ा हुआ था…मेघना के हाथ पांव फूलने लगे लोगों को डराने वाली मेघना को आज खुद डर लग रहा था…वो हेल्प-हेल्प चिल्ला रही थी लेकिन शायद उसे कोई सुन ही नहीं पा रहा था…उसकी आस खो चुकि थी तभी उसे लगा कि कोई उसका हाथ पकड़े हुए है और उसे खींचकर ले जा रहा है…लेकिन वहां कोई नहीं था वो बस चले जा रही थी और आखिरकार वो वहां पहुंच ही गई जहां उसकी टीम थी…ये क्या कोई दिख क्यों नहीं रहा है…

सबका सिर गायब था

उसके पसीने छूट रहे थे तभी उसका पैर किसी चीज पर पड़ा उसने पैर पर रोशनी मारी तो देखा खून से लथपथ रुद्र के शरीर पर उसका पैर है उसके शरीर का निचला हिस्सा गायब था जैसे किसी नौचकर खाया हो…उसने चारों तरफ देखा तो उसकी टीम के सभी लोगों ऐसे ही जमीन पर पड़े थे किसी का सिर गायब था तो किसी का पैर ये सब देखकर मेघना बेहोश हो गई…और जब उसकी आंखे खुली तो उसे लगा कि कोई उसे कंधे पर रखकर भाग रहा है मेघना को ये सब एक सपने की तरह लग रहा था उसने ध्यान से देखा तो वो चौंक गई अरे ये तो चौकीदार है….वो एक झटके में कंधे से कूद गई और भागने लगी…उसे पता था कि अब उसका बचना मुश्किल है लेकिन फिर भी आखिरी दम तक खुद को बचाने की कोशिश कर रही थी…

भागते-भागते मेघना वहीं पहुंच गई जहां शूटिंग के लिए उसका सेट तैयार किया जा रहा था…किसी के शरीर पर उसका पैर पड़ा और वो लड़खड़ा के नीचे गिर गई उसने देखा कि चौकीदार भी उसतक पहुंच चुका था…देखते ही देखते चौकीदार ने जानवर का रूप ले लिया…उसे देखते ही मेघना बचाओ-बचाओ चिल्लाने लगी लेकिन शायद अब कोई बचा ही नहीं था जो उसकी चीख सुने…वो जानवर मेघना पर झपट पड़ा और उसे नौचने लगा…मेघना दर्द से चिल्ला रही थी धीरे-धीरे उसकी सांसे थम गई और कब्रिस्तान का रहस्य भी उसी के साथ वहीं दब गया।

Writer:Akanksha Singh

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here