Home Aap ki Kalam अपशकुनी

अपशकुनी

204
0

लघुकथा १

आंधी तेज़ थी।बारिश भी कहर ढा रही थी।सब घबराए हुए थे।उसकी प्रसव पीड़ा भी बढ़ रही थी।घर में जुड़वा बच्चे हुए थे;उसने एक लड़का और एक लड़की जना था।झोपड़ी की छत उड़ चुकी थी। दुधमुही लड़की पर अपशकुनी होने का ठप्पा लग चुका था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here